Byshiv kumar

Dec 20, 2022

राशन डीलर रामेंद्र तोमर ने एक गरीब का राशन 80किलो में 20किलो देकर 60किलो स्वयं डकार गए*भिण्ड: गोहद में गरीबों को भूखे पेट ना सोने देने की गारंटी लेने वाली राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना भ्रष्टाचार के घेरे में हैं। गरीबों को राशन देने के नाम पर सरकार से जारी हो रहे सस्ते अनाज की आड़ में प्रशासनिक अधिकारी व बीजेपी मंत्रियों के दबाव में भ्रष्टाचार का खेल पनप रहा है।ऐसा ही मामला गोहद के छींमका में राशन की दुकान पर देखने को मिला है। राशन की दुकान पर मौजूद लोगों ने बताने के साथ साथ दिखाया भी है।कि रामबरन को 80 किलो राशन मिलना था परंतु साइकिल पर लगभग 20 किलो राशन रखे हुए हैं। प्रशासन की मिलीभगत से लाल सिंह आर्य बीजेपी मंत्री के खास चहेते राशन डीलर रामेंद्र तोमर द्वारा कम तौल के साथ-साथ नवंबर व दिसंबर का डबल खाद्यान्न मिलना था लेकिन सिंगल ही बांटा जा रहा है यह बात रामबरन ग्राम नावली ग्राम पंचायत छींमका द्वारा ए के न्यूज़ को बताया गया कि 80 किलो राशन मिलना था। अंगूठा लगाकर 80 किलो राशन का ट्रांजक्शन हुआ लेकिन 20 किलो राशन दिया गया। मौजूद सभी लोगों ने बताया कि राशन को कम तौल कर देते हैं जिसका विरोध करने पर लोगों को राशन डीलर के द्वारा धमकाकर कह दिया जाता हैं कि राशन लेना है तो लो नहीं लेना हो तो मत लो। राशन डीलर यह धमकी देकर अपनी मनमानी कर रहा है।राशन की दुकान पर उपस्थित लोगों ने कहा कि पहले हमें सही खाद्यान्न मिलता था। लेकिन सीधा सीधा आरोप लाल सिंह मंत्री जी पर लगाया है कि वह भ्रष्टाचार में पूरा पूरा साथ दे रहे है। जिससे रामेंद्र तोमर राशन डीलर के हौसले बुलंद है। जब राशन डीलर रामेंद्र तोमर से मीडिया द्वारा सवाल जवाब किया गया। तब राशन डीलर ने कहा कि खाद्यान्न हम एक माह में दो बार बाटते है तो फिर रामबरन का दो माह का डबल खाद्यान्न 80किलो राशन का ट्रांजेक्शन एक ही साथ क्यों किया क्या यह भ्रष्टाचार नही है। सच बात तो यह है कि लोगो से फिंगर राशन बाटने के कुछ दिन पहले ही लोगो को बुलवाकर पहले ही लगवा लिए जाते है और एक माह का राशन देकर पैसे ले लेते है और राज्य और केंद्र सरकार से आने वाले राशन में केवल राज्य या केंद्र में से केवल एक का ही देते हैं और एक का गोल कर भ्रष्टाचार की बलि चढ़ा देते है। जानकार लोगो को अधिक राशन देकर उनका मुंह बंद करा देते है ताकि वह दूसरे से न कहे।जिसका फायदा सीधा राशन डीलर को होता है क्योंकि जो अनजान अनपढ़े लोगो को नही पता होता है कि राशन कितना मिलना था। ऐसे दबंग राशन डीलरो पर प्रशासन द्वारा शक्त कार्रवाई होनी चाहिए। अजय अष्ठाना फूड अधिकारी गोहद को उक्त भ्रष्टाचार से अवगत करा दिया गया है अब देखना यह है कि आगे राशन डीलर रामेंद्र तोमर के खिलाप क्या कार्यवाही होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *